TIME PASS

Entertenment & Knowledge & Time Pass.NEWS

Saturday, May 5, 2018

प्रधानमंत्री भारतीयजनऔषधि केंद्र 

No comments :
भारत सरकार द्वारा मान्यता
जेनरिक एवं सस्ती दवाआे का विशालतम भण्डार
प्रधानमंत्री भारतीयजनऔषधि 
केंद्र 
खुल चुका है । 
कुछ दवाआे का साधारण बाज़ार मूल्य और जनऔषधि मूल्य आप के 
अवलोकनार्थ निम्न प्रकार है :- 

 Rosuvastatin 20 mg 
साधारणबाज़ार मूल्य Rs.289 
और जनऔषधिमूल्य Rs 27/-
Ramipril 5 mg 
साधारण बाज़ारमुल्य : Rs.78/-
जन औषधि मुल्य: Rs7/- only
 Telmisartan 20mg 
साधारणबाज़ार मूल्य: Rs.55 
जनऔषधिमूल्य:Rs 6/73 only
Calcium and calcitrol tablet
साधारण बाज़ारमूल्य Rs 80.00
जनऔषधिमूल्य Rs 14/-only
Aspirin 150 mg
साधारणबाज़ार मूल्य Rs 42.00
जनऔषधिमूल्य Rs 1.90 केवल
Pentaperazole+domperid
one cap. 
बाज़ार मुल्यRs 119.00 
जनऔषधिमूल्य Rs16.00 only
Amoxycillin+clavulanic acid  625mg
 साधारण बाज़ार मूल्यRs
150.00 
जन औषधि मूल्य Rs.
52.24 केवल ।
Clopidrogel 75mg 
साधारणबाज़ारमूल्य Rs 64.00 
जनऔषधिमूल्य Rs 12.00 only
Glimpride + metformin (1+500)mg
 साधारणबाज़ारमूल्य Rs 65.00 
जनऔषधि मूल्य Rs 6.73 only

लेकिन क्या आप को यह पता है जवाहरलाल नेहरु ने अपनी पत्नी के साथ क्या किया ?

No comments :
जवाहरलाल नेहरु ने अपनी पत्नी के साथ जो किया वो इतना भयावह था कि जान कर आप नेहरु से नफरत करने लगेंगे..
टीवी चैनल्स पर कांग्रेस पार्टी के नेताओं के द्वारा अक्सर ये आरोप लगाते हुए सुना जाता है कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी पत्नी को छोड़ दिया.
लेकिन क्या आप को यह पता है जवाहरलाल नेहरु ने अपनी पत्नी के साथ क्या किया ?
जवाहरलाल नेहरु की पत्नी कमला नेहरु को टीबी रोग हो गया था .. उस जमाने में टीबी की दहशत ठीक ऐसा ही थी जैसे आज एड्स की है .. क्योंकि तब टीबी का इलाज नहीं था और इन्सान तिल-तिल... तड़प- तड़प कर पूरी तरह गलकर हड्डी का ढाँचा बनकर मरता था … और कोई भी टीबी मरीज के पास भी नहीं जाता था क्योंकि टीबी साँस से फैलती थी … लोग मरीजों को पहाड़ी इलाके में बने टीबी सेनिटोरियम में भर्ती कर देते थे ..
नेहरु ने अपनी पत्नी को युगोस्लाविया [आज चेक रिपब्लिक] के प्राग शहर में दूसरे इन्सान के साथ सेनिटोरियम में भर्ती कर दिया ..
*कमला नेहरु पूरे दस सालों तक अकेले टीबी सेनिटोरियम में पल पल मौत का इंतजार करती रही.. लेकिन नेहरु दिल्ली में एडविना बेंटन के साथ इश्क करते रहे...सबसे शर्मनाक बात तो ये है कि इस दौरान नेहरु कई बार ब्रिटेन गये लेकिन एक बार भी उन्होंने प्राग जाकर अपनी धर्मपत्नी का हालचाल नहीं लिया .*
नेताजी सुभाषचन्द्र बोस को जब पता चला तब वो प्राग गये .. और डाक्टरों से और अच्छे इलाज के बारे में बातचीत की .. प्राग के डाक्टरों ने बोला कि स्विट्जरलैंड के बुसान शहर में एक आधुनिक टीबी हास्पिटल है जहाँ इनका अच्छा इलाज हो सकता है..
तुरंत ही नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने उस जमाने में 70 हजार रूपये इकट्ठे किये और उन्हें विमान से स्विटजरलैंड के बुसान शहर में हास्पिटल में भर्ती किया ..

आखिर ऐसा क्या हो गया ?? कि आज के आधुनिक भारत में बलात्कार रोज की सामान्य बात बन कर रह गयी है ??

No comments :
आखिर भारत जैसे देवियों को पूजने वाले देश में बलात्कार की गन्दी मानसिकता कहाँ से आयी  आखिर क्या बात है कि जब प्राचीन भारत के रामायण, महाभारत आदि लगभग सभी हिन्दू-ग्रंथ के उल्लेखों में अनेकों लड़ाईयाँ लड़ी और जीती गयीं, परन्तु विजेता सेना द्वारा किसी भी स्त्री का बलात्कार होने का जिक्र नहीं है।
तब आखिर ऐसा क्या हो गया ??  कि आज के आधुनिक भारत में बलात्कार रोज की सामान्य बात बन कर रह गयी है ??
~श्री राम ने लंका पर विजय प्राप्त की पर न ही उन्होंने और न उनकी सेना ने पराजित लंका की स्त्रियों को हाथ लगाया ।
~महाभारत में पांडवों की जीत हुयी लाखों की संख्या में योद्धा मारे गए। पर किसी भी पांडव सैनिक ने किसी भी कौरव सेना की विधवा स्त्रियों को हाथ तक न लगाया ।
अब आते हैं ईसापूर्व इतिहास में~
220-175 ईसापूर्व में यूनान के शासक "डेमेट्रियस प्रथम" ने भारत पर आक्रमण किया। 183 ईसापूर्व के लगभग उसने पंजाब को जीतकर साकल को अपनी राजधानी बनाया और पंजाब सहित सिन्ध पर भी राज किया। लेकिन उसके पूरे समयकाल में बलात्कार का कोई जिक्र नहीं।
~इसके बाद "युक्रेटीदस" भी भारत की ओर बढ़ा और कुछ भागों को जीतकर उसने "तक्षशिला" को अपनी राजधानी बनाया। बलात्कार का कोई जिक्र नहीं।
~"डेमेट्रियस" के वंश के मीनेंडर (ईपू 160-120) ने नौवें बौद्ध शासक "वृहद्रथ" को पराजित कर सिन्धु के पार पंजाब और स्वात घाटी से लेकर मथुरा तक राज किया परन्तु उसके शासनकाल में भी बलात्कार का कोई उल्लेख नहीं मिलता।
~"सिकंदर" ने भारत पर लगभग 326-327 ई .पू आक्रमण किया जिसमें हजारों सैनिक मारे गए । इसमें युद्ध जीतने के बाद भी राजा "पुरु" की बहादुरी से प्रभावित होकर सिकंदर ने जीता हुआ राज्य पुरु को वापस दे दिया और "बेबिलोन" वापस चला गया ।
विजेता होने के बाद भी "यूनानियों" (यवनों) की सेनाओं ने किसी भी भारतीय महिला के साथ बलात्कार नहीं किया और न ही "धर्म परिवर्तन" करवाया ।
~इसके बाद "शकों" ने भारत पर आक्रमण किया (जिन्होंने ई.78 से शक संवत शुरू किया था)। "सिन्ध" नदी के तट पर स्थित "मीननगर" को उन्होंने अपनी राजधानी बनाकर गुजरात क्षेत्र के सौराष्ट्र , अवंतिका, उज्जयिनी,गंधार,सिन्ध,मथुरा समेत महाराष्ट्र के बहुत बड़े भू भाग पर 130 ईस्वी से 188 ईस्वी तक शासन किया। परन्तु इनके राज्य में भी बलात्कार का कोई उल्लेख नहीं।
~इसके बाद तिब्बत के "युइशि" (यूची) कबीले की लड़ाकू प्रजाति "कुषाणों" ने "काबुल" और "कंधार" पर अपना अधिकार कायम कर लिया। जिसमें "कनिष्क प्रथम"  (127-140ई.) नाम का सबसे शक्तिशाली सम्राट हुआ।जिसका राज्य "कश्मीर से उत्तरी सिन्ध" तथा "पेशावर से सारनाथ" के आगे तक फैला था। कुषाणों ने भी भारत पर लम्बे समय तक विभिन्न क्षेत्रों में शासन किया। परन्तु इतिहास में कहीं नहीं लिखा कि इन्होंने भारतीय स्त्रियों का बलात्कार किया हो ।
~इसके बाद "अफगानिस्तान" से होते हुए भारत तक आये "हूणों" ने 520 AD के समयकाल में भारत पर अधिसंख्य बड़े आक्रमण किए और यहाँ पर राज भी किया। ये क्रूर तो थे परन्तु बलात्कारी होने का कलंक इन पर भी नहीं लगा।
 
~इन सबके अलावा भारतीय इतिहास के हजारों साल के इतिहास में और भी कई आक्रमणकारी आये जिन्होंने भारत में बहुत मार काट मचाई जैसे "नेपालवंशी" "शक्य" आदि। पर बलात्कार शब्द भारत में तब तक शायद ही किसी को पता था।
अब आते हैं मध्यकालीन भारत में~
जहाँ से शुरू होता है इस्लामी आक्रमण~
और यहीं से शुरू होता है भारत में बलात्कार का प्रचलन ।
~सबसे पहले 711 ईस्वी में "मुहम्मद बिन कासिम" ने सिंध पर हमला करके राजा "दाहिर" को हराने के बाद उसकी दोनों "बेटियों" को "यौनदासियों" के रूप में "खलीफा" को तोहफा भेज दिया।
तब शायद भारत की स्त्रियों का पहली बार बलात्कार जैसे कुकर्म से सामना हुआ जिसमें "हारे हुए राजा की बेटियों" और "साधारण भारतीय स्त्रियों" का "जीती हुयी इस्लामी सेना" द्वारा बुरी तरह से बलात्कार और अपहरण किया गया ।
~फिर आया 1001 इस्वी में "गजनवी"। इसके बारे में ये कहा जाता है कि इसने "इस्लाम को फ़ैलाने" के उद्देश्य से ही आक्रमण किया था।
"सोमनाथ के मंदिर" को तोड़ने के बाद इसकी सेना ने हजारों "काफिर औरतों" का बलात्कार किया फिर उनको अफगानिस्तान ले जाकर "बाजारों में बोलियाँ" लगाकर "जानवरों" की तरह "बेच" दिया ।
~फिर "गौरी" ने 1192 में "पृथ्वीराज चौहान" को हराने के बाद भारत में "इस्लाम का प्रकाश" फैलाने के लिए "हजारों काफिरों" को मौत के घाट उतर दिया और उसकी "फौज" ने "अनगिनत हिन्दू स्त्रियों" के साथ बलात्कार कर उनका "धर्म-परिवर्तन" करवाया।
~ये विदेशी मुस्लिम अपने साथ औरतों को लेकर नहीं आए थे।
~मुहम्मद बिन कासिम से लेकर सुबुक्तगीन, बख्तियार खिलजी, जूना खाँ उर्फ अलाउद्दीन खिलजी, फिरोजशाह, तैमूरलंग, आरामशाह, इल्तुतमिश, रुकुनुद्दीन फिरोजशाह, मुइजुद्दीन बहरामशाह, अलाउद्दीन मसूद, नसीरुद्दीन महमूद, गयासुद्दीन बलबन, जलालुद्दीन खिलजी, शिहाबुद्दीन उमर खिलजी, कुतुबुद्दीन मुबारक खिलजी, नसरत शाह तुगलक, महमूद तुगलक, खिज्र खां, मुबारक शाह, मुहम्मद शाह, अलाउद्दीन आलम शाह, बहलोल लोदी, सिकंदर शाह लोदी, बाबर, नूरुद्दीन सलीम जहांगीर,
~अपने हरम में "8000 रखैलें रखने वाला शाहजहाँ"।

यह कठोर यातना तो "राष्ट्र प्रेम" का श्रृंगार है, खुशी खुशी सहन करेंगे.

No comments :
"कुत्ती"
"कमीनी"
"वेश्या"
"कुलटा बोल इस भगवा में किसकी रखैल है ?"
"अब तक कितनों के बिस्तर पर गई‎ है?"
"किसके इशारे पर सब कर रही है ?"
"जिंदगी प्यारी है तो जो मैं कहता हुं कबुल ले बाकी जिंदगी आराम से कटेगी"
यह शब्द सुनकर आपकी त्योरियां जरुर चढ़ गई‎ होगी
मेरी भी चढ़ गई थी। ऐसे घृणित शब्दों से किसी और को नहीं बल्कि भगवा वस्त्र धारिणी निष्कलंक साध्वी प्रज्ञा दीदी को कलंकित "कांग्रेस"‎ के इशारे पर कांग्रेस‎ का दल्ला मुम्बई ATS हेमंत करकरे के सामने मुम्बई पुलिस व ATS के दोगलों ने नहलाया था. .......जिस करकरे को आज शहीद मान कर सम्मान दिया जाता है एक नम्बर का नीच आदमी था.... उसको तो भगवान ऐसी सजा दी कि इसका पूरा परिवार तबाह हो गया... खुद कुत्ते की मौत मारा गया ,...औरत केंसर से तड़प तड़प कर मरी बच्चा एक्सीडेंट से खत्म हो गया।
मैं साध्वी दीदी का एक साक्षात्कार देख रहा था ऐसे घृणित शब्दों को इशारे में बताया बताते हुए उनके नेत्र सजल हो गये. साक्षात्कार देखते हुए क्रोधाग्नि से धधक रहे मेरे आँखो से भी अश्रु की धारा फूट पड़ी "साध्वी दीदी" ने मर्माहत शब्दों में वृत्तान्त सुनाया कि मेरे शरीर का कोई‎ ऐसा अंग नही जिसे चोटिल ना किया गया हो।

जब पत्रकार ने पुछा कि मारने के कारण ही आपके रीढ़ की हट्टी टूट गई‎ थी ??
साध्वी दीदी ने कहा, "नहीं, मारने से नहीं, एक जन हमारा हाथ पकड़ते थे एक जन पांव और झूलाकर दीवार की तरफ फेंक देते थे, ऐसा प्राय: रोजाना होता था दीवार से सर टकराकर सुन्न हो जाता था कमर में भयानक दर्द होता था ऐसा करते करते एक दिन रीढ़ की हड्डी टूट गई तब अस्पताल में भर्ती कराया गया।"
साध्वी दीदी ने बताया, "एक दिन तो ऐसा हुआ कि मारते मारते एक पुलिस वाला थक गया तो दुसरा मारने लगा उस दौरान मेरे फेफड़े की झिल्ली फट गई‎ फिर भी विधर्मी निर्दयता से मारता रहा.".....साध्वी दीदी ने बताया, "रीढ़ की हड्डी टूटने के बाद मैं बेहोश हो गई‎ थी। जब होश आया तो देखा कि मेरे शरीर से सारा भगवा वस्त्र उतार लिया गया गया था. मुझे एक फ्राक पहनाया गया था।"
साध्वी दीदी ने बताया, "मेरे साथ मेरे एक शिष्य को भी गिरफ्तार किया गया था उसे मेरे सामने लाकर उसे चौड़ा वाला बेल्ट दिया और कहा मार!! अपने गुरु को इस साली को!!" .....
.."शिष्य, सकुचाने लगा तो मैं बोली मारो मुझे !! शिष्य ने मजबुरी में मारा तो जरुर मुझे लेकिन नरमी से तब एक पुलिस वाले ने शिष्य से बेल्ट छीन कर शिष्य को बुरी तरह पीटने लगा और बोला ऐसे मारा जाता है."साध्वी दीदी ने बताया कि एक दिन कुछ पुरुष‎ कैदियों के साथ मुझे खड़ी करके अश्लील आडियो सुनाया जा रहा था. मेरे शरीर पर इतनी मार पड़ी थी कि मेरे लिए खड़ी रहना मुश्किल था. मैं बोली कि बैठ जाऊँ वो बोले साली शादी मे आई है क्या कि बैठ जायेगी!! मेरी आँख बंद होने लगी मैं अचेत हो गई. साध्वी दीदी ने बताया, "मेरे दोनों हाथों को सामने फैलवाकर एक चौड़े बेल्ट से मारते थे मेरा दोनो हाथ सूज जाता था. अँगुलियां भी काम नही करती थी, तब गुनगुना पानी लाया जाता था. मैं अपने हाथ उसमें डालती कुछ आराम होता जब अंगलुियां हिलने डुलने लगती थी. तो फिर से वही क्रिया मेरे पर मार पड़ती थी. साध्वी जी ने बताया कि मुझे तोड़ने के लिए मेरे चरित्र पर लांछन लगाया क्योंकि लोग जानते हैं कि किसी औरत को तोड़ना है तो उसके चरित्र पर दाग लगाओ !

मन की खूबसूरती पर ध्यान दो।

No comments :
श्रीदेवी अपने समय की टॉप हीरोइन रही हैं और वो भी बिना प्लास्टिक सर्जरी के।
फिर 50 पार करके उन्हें अचानक 20 साल का दिखने की धुन सवार हो गई। उसके चलते उन्होंने ढेरों सर्जरी करवाई।  gym, योग, डाइटिंग कुछ भी नही छोड़ा।
ये सब उन्होंने स्वस्थ रहने के लिए नही बल्कि जवान दिखने के लिए किया। शरीर पर हर तरह के अत्याचार किये। तो एक दिन शरीर ने उन्हें धोखा दे दिया।
सिर्फ पतला होना ही स्वास्थ्य की निशानी नही है क्योंकि बहुत से मोटे लोग उम्र पूरी करके जाते हैं और पतले लोग समय से पहले ।
अपने को बढ़ती उम्र के साथ स्वीकारना एक तनावमुक्त जीवन देता है। हर उम्र एक अलग तरह की खूबसूरती लेकर आती है उसका आनंद लीजिये।
बाल रंगने है तो रंगिये, वज़न कम रखना है तो रखिये, मनचाहे कपड़े पहनने है तो पहनिए,बच्चों की तरह खिलखिलाइये, अच्छा सोचिये, अच्छा माहौल रखिये, शीशे में दिखते हुए अपने अस्तित्व को स्वीकारिये।
कोई भी क्रीम आपको गोरा नही बनाती, कोई शैम्पू बाल झड़ने नही रोकता,कोई तेल बाल नही उगाता, कोई साबुन आपको बच्चों जैसी स्किन नही देता। चाहे वो प्रॉक्टर गैम्बल हो या पतंजलि।सब सामान बेचने के लिए झूट बोलते हैं।
ये सब कुदरती होता है। उम्र बढ़ने पर त्वचा से लेकर बॉलों तक मे बदलाव आता है। पुरानी मशीन को maintain करके बढ़िया चला तो सकते हैं उसे नई नही कर सकते।ना किसी टूथपेस्ट में नमक होता है ना किसी मे नीम। किसी क्रीम में केसर नही होती क्योंकी 2 ग्राम केसर भी 500 रुपए से कम की नही होती।
जो आपकी पॉकेट allow करती है वो प्रसाधन खरीदिये क्योंकी केमिकल्स सब में हैं। lux की बनियान साधारण बनियान से इसलिये महंगी है क्योंकी उसमे विज्ञापन के लिए सनी देओल और अक्षय कुमार होते हैं। और वो लक्स नही calvin cline या पियरे कार्डिन पहनते हैं।
करीना कपूर कभी लक्स साबुन से नही नहाती और अमिताभ बच्चन लाल तेल नही लगाता।
कोई बात नही अगर आपकी नाक मोटी है तो,
कोई बात नही आपकी आंखें छोटी हैं तो,
कोई बात नही अगर आप गोरे नही हैं
या आपके होंठों की shape perfect नही हैं....
फिर भी हम सुंदर हैं, अपनी सुंदरता को पहचानिए। दूसरों से कमेंट या वाह वाही लूटने के लिए सुंदर दिखने से ज्यादा ज़रूरी है अपनी सुंदरता को महसूस करना।
हर बच्चा सुंदर इसलिये दिखता है कि वो छल कपट से परे मासूम होता है और बडे होने पर जब हम छल व कपट से जीवन जीने लगते है तो वो मासूमियत खो देते हैं। और उस सुंदरता को पैसे खर्च करके खरीदने का प्रयास करते हैं।
मन की खूबसूरती पर ध्यान दो।

इस्लामीकरण"की तैयारी ?

No comments :
इसे "संयोग"कहें,???
या "इस्लामीकरण"की तैयारी ???


क्या कारण है ? कि, "बाॅलीवुड"में सभी जगह,"मुस्लिम मर्दों" का वर्चस्व"है .

और-  उन,"सभी" की," पत्नियाॅ"" हिन्दू" हैं ।
‍♀शाहरुख खान की पत्नी - "गौरी" एक हिंदू है। 
‍♀आमिर खान की पत्नियां - "रीमा दत्ता /किरण राव"!!...
‍♀और सैफ अली खान की पत्नियाँ -  "अमृता सिंह / करीना कपूर" दोनों हिंदू हैं।
‍♀नवाब पटौदी ने भी ,हिंदू लड़की "शर्मीला टैगोर" से शादी की थी।
‍♀फरहान अख्तर की पत्नी - "अधुना भवानी" .....
‍♀और फरहान आजमी की पत्नी, "आयशा टाकिया" भी हिंदू है।
अमृता अरोड़ा की शादी एक ‍♀"मुस्लिम"से हुई है ...जिसका नाम," शकील लदाक" है।
‍♀सलमान खान के भाई - "अरबाज खान" की पत्नी - "मलाइका अरोड़ा" हिंदू है!!!
‍♀और उसके छोटे भाई - "सुहैल खान" की पत्नी - "सीमा सचदेव"भी हिंदू है।
‍♀आमिर खान के भतीजे - "इमरान" की हिंदू - पत्नी "अवंतिका मलिक" है। 
‍♀संजय खान के बेटे -"जायद खान" की पत्नी - "मलिका पारेख" है।
‍♀फिरोज खान के बेटे - "फरदीन" की पत्नी:---" नताशा "है। 
‍♀इरफान खान की बीवी का नाम -  "सुतपा सिकदर" है। 
‍♀नसरुद्दीन शाह की हिंदू पत्नी -  "रत्ना पाठक" हैं।
एक समय था, जब ‍♀"मुसलमान एक्टर" हिंदू नाम"रख लेते थे ....
क्योंकि ,उन्हें डर था, कि अगर "दर्शकों" को उनके ‍,‍♀"मुसलमान" होने का,"पता" लग गया .....तो,उनकी "फिल्म" देखने, कोई नहीं आएगा।!!!

ऐसे लोगों में,"सबसे मशहूर" नाम ‍♀"युसूफ खान" का है ....
जिन्हें, "दशकों"तक, हम "दिलीप कुमार" समझते रहे।!!

‍♀"महजबीन अलीबख्श",मीना कुमारी"बन गई...
और
‍♀"मुमताज बेगम जहाँ देहलवी"," मधुबाला" बनकर, हिंदू ह्रदयों पर," राज" करतीं रहीं।
‍♀"बदरुद्दीन जमालुद्दीन काजी" को हम - "जॉनी वाकर" समझते रहे ....और
‍♀"हामिद अली खान" विलेन "अजित" बनकर, काम करते रहे।!!!
मशहूर "अभिनेत्री" रीना राय" का ,"असली नाम"‍♀"सायरा खान" था।

‍♀"जॉन अब्राहम" भी,दरअसल एक "मुस्लिम" है ....
जिसका "असली नाम" फरहान इब्राहिम" है।!!

जरा सोचिए ....कि ,पिछले "50 साल"में ऐसा क्या हुआ है ?????कि:---- अब,ये "मुस्लिम कलाकार", "हिंदू नाम"रखने की "जरूरत"नहीं समझते.....

बल्कि, उनका "मुस्लिम नाम" उनका "ब्रांड" बन गया है।!!

यह उनकी "मेहनत" का "परिणाम" है ???? या "हम लोगों" के "अंदर" से, "कुछ"खत्म, हो गया है???

जरा सोचिए ....कि :-- हम कौन सी,"फिल्मों" को "बढ़ावा" दे रहे हैं????

क्या वजह है,कि "बहुसंख्यक बॉलीवुड फिल्मों" में ,"हीरो"‍♀ "मुस्लिम लड़का" और "हीरोइन" "हिन्दू लड़की" होती है???

क्योंकि - ऐसा "फिल्म उद्योग" का सबसे बड़ा -"फाइनेंसर",‍♀"दाऊद इब्राहिम" चाहता है l
" टी-सीरीज' का मालिक "गुलशन कुमार" ने उसकी बात नहीं मानी, और "नतीजा" सबने देखा।

आज भी,एक "फिल्मकार" को, *‍♀मुस्लिम हीरो, साइन करते ही, "दुबई" से,"आसान शर्तों "पर "कर्ज" मिल जाता है।
‍♀इकबाल मिर्ची और
‍♀अनीस इब्राहिम, जैसे ‍♀"आतंकी एजेंट" "सात सितारा होटलों" में," खुलेआम" "मीटिंग", करते देखे जा सकते हैं।

‍♀सलमान खा
‍♀शाहरुख खान
‍♀आमिर खान
‍♀ सैफ अली खान
‍♀नसीरुद्दीन शाह
‍♀फरहान अख्तर
‍♀नवाजुद्दीन सिद्दीकी
‍♀फवाद खान जैसे अनेक नाम "हिंदी फिल्मों" की "सफलता" की "गारंटी"बना दिए गए हैं।

अक्षय कुमार
अजय देवगन
इमरान हाशमी
*जैसे "फिल्मकार" इन दरिंदों की "आंख के कांटे" हैं*।

तब्बू, हुमा कुरैशी, सोहा अली खान, और जरीन खान, जैसी "प्रतिभाशाली अभिनेत्रियों" का," कैरियर" जबरन, "खत्म"कर दिया गया .....*
क्योंकि, वे मुस्लिम हैं.... और इस्लामी कठमुल्लाओं को,
उनका "काम""गैर मजहबी"लगता है।

फिल्मों की ,"कहानियां" लिखने का काम भी," सलीम खान और जावेद अख्तर" जैसे " मुस्लिम लेखकों" के" इर्द-गिर्द "ही रहा।

जिनकी- " कहानियों"में, एक "भला-ईमानदार" ....मुसलमान,

एक "पाखंडी" ब्राह्मण

एक "अत्याचारी" - "बलात्कारी" क्षत्रिय

एक "कालाबाजारी" वैश्य

एक "राष्ट्रद्रोही"नेता

एक "भ्रष्ट"पुलिस अफसर

और एक" गरीब" दलित महिला,

Ye - होना,"अनिवार्य" शर्त है।!

इन फिल्मों के "गीतकार और संगीतकार" भी, "मुस्लिम" हों .....
तभी तो ,"एक गाना,"मौला" के नाम का बनेगा ....
और जिसे गाने वाला,"पाकिस्तान" से आना जरूरी है।
इस"अंडरवर्ड"की,"असिलियत" को ,"पहचानो"....
और "हिन्दू समाज" को,' संगठित" करो.....
अपनी अपने जमीर को जगाओ
तब ही, तुम, "तुम्हारे धर्म" की "रक्षा" कर पाओगे !!!। सेंड करो अपने सभी सोए हुए हिन्दू भाइयों को जगाओ  वंदे मातरम
Say it "coincidence", ???
Or "Islamicization" preparation ???



What is the reason ? That, in all places, "Bollywood" is "dominated by Muslim men" .

And- those, "all", are "wives" "Hindu" .
♀Shahrukh Khan's wife - "Gauri" is a Hindu. 
♀Amir Khan's wives - "Rima Dutta / Kiran Rao" !! ...
♀And Saif Ali Khan's wives - "Amrita Singh / Kareena Kapoor" are both Hindus.
Nawab Pataudi also married a Hindu girl "Sharmila Tagore".
♀Farahan Akhtar's wife - "Apuhna Bhavani" ..... 
♀And Farhan Azmi's wife, "Ayesha Takia" is also Hindu.
 Amrata Arora has been married to a ♀ "Muslim" ... whose name is "Shakeel Ladak".
♀Salman Khan's brother- wife of "Arbaaz Khan" - "Malaika Arora" is a Hindu !!! 
♀ And his younger brother - wife of "Suhail Khan" - "Seema Sachdev" is also Hindu.
♀Amir Khan's nephew- "Imran" is Hindu-wife "Avantika Malik". 
♀ Son of Sanjay Khan - wife of "Zayed Khan" - "Malika Parekh".
♀ Firoz Khan's son - wife of "Fardeen": --- "Natasha". 
The name of the wife of Irfan Khan - "Sutpa Sikder". 
Anusruddin Shah's Hindu wife - "Ratna Pathak".
 There was a time when ♀ "Muslim actors used to keep Hindu names" ....
Because, he was afraid, that if the "viewers" had their "♀" being "know", then they would have "know", then their "movie" will not see anybody else. !!!

In such people, "the most famous" name is ♀ "Yusuf Khan" ....
To whom, "decades", we kept thinking "Dilip Kumar". !!

♀ "Mejben Alibkhsh", Meena Kumari "became ...
 And
♀ "Mumtaz Begum," where "Dehalvi", "Madhubala", continued to "reign" over Hindu hearts.
♀ "Badruddin Jamaluddin Kazi" - We were considered "Johnny Walker" .... And
♀ "Hamid Ali Khan" became a villain, "Ajit", working. !!!
The "real name" ♀ "Saira Khan" of "famous" actress "Reena Roy" was.

♀ "John Abraham" is actually a "Muslim" ....
Whose real name is "Farhan Ibrahim". !!

Just think .... that's what happened in the last "50 Years" ????? that: ---- Now, these do not understand the "need for a Muslim artist", "Hindu name". ...

Rather, their "Muslim name" has become their "brand."

This is the "result" of their "hard work" ???? Or "somebody" has finished, from "inside" of "us people" ???

Just think ... that: - Which are we, "promoting" movies "???"

What is the reason, that in the "majority Bollywood films", "Hero" ♀ "Muslim boy" and  "heroine" is "Hindu girl" ???

Because - the biggest of "film industry" - "financier", ♀ "Dawood Ibrahim" wants
"T-Series" owner "Gulshan Kumar" did not listen to him, and "the result" was all seen.

Even today, a "filmmaker" gets a "loan" on "easy terms" from the "Muslim hero", after signing, "Dubai".
Ichikal mirchi and
♀ Anne Ibrahim, like "terrorist agent" in "Seven Star Hotels", can be seen doing "Openly" "Meetings".

♀ eat alman
♀shahrukh khan
♀Amir Khan
♀ Saif Ali Khan
♀nisiruddin shah
♀afarhan Akhtar
♀Nawajuddin Siddiqui
Many names such as 'Fabad Khan' have been made to "guarantee" the "success" of "Hindi films".

Akshay Kumar
Ajay Devgan
Ikimran hashmi
* Such "filmmakers" are the "eyes of the eyes" of these darlings.

For "talented actresses" like Tabu, Huma Qureshi, Soha Ali Khan, and Zarine Khan, "Career" was forced, "Finished" ..... *
Because, they are Muslims .... and Islamic rascals,
Their "work" seems to be "non-religious".

The work of writing films, "stories" also remained "around" of "Muslim writers" like "Salim Khan and Javed Akhtar".

In whose "stories", a "good-hearted" .... Muslims,

A "hypocritical" Brahmin
 
A "tyrannical" - "rape" Kshatriya

A "black marketing" vaishya
 
A "seditious" leader

A "corrupt" police officer

And a "poor" Dalit woman,

Ye - be, "mandatory" condition.!

"The songwriter and composer" of these films, also be "Muslims" .....
Even then, "one song," Maula "will be named ....
And to whom the singer, "Pakistan", it is necessary to come from.
 of this "underworld", "Assiit", "recognize" ....
And "Hindu society" to "organize" .....
Wake up your own conscience
Only then, you will be able to "preserve" your religion. !!! Send to all your sleeping Hindu brothers, Vande Mataram

आरक्षण के चलते समाज में इन्हें सम्मान नहीं मिल रहा है

No comments :
तमिलनाडु की एक जाति है, पल्लर या "देवेंद्रकुल्ला  वेल्लर", वैसे तो ये किसान और मज़दूरों की पिछड़ी जाति है, जिसे SC, ST श्रेणी का आरक्षण प्राप्त है,
पर एक काबिले तारीफ कदम इस समूह के करीब एक लाख लोग उठाने जा रहे हैं।वे अपनी जाति को आरक्षण से बाहर करना चाहते हैं।कारण?
आरक्षण उन्हें एक गाली की तरह लगता है, जिसे वे अपना अपमान समझते हैं।इनका कहना है, आरक्षण के चलते समाज में इन्हें सम्मान नहीं मिल रहा है और राजनीतिक पार्टियाँ इनका दुरुपयोग कर रही हैं।इस लिये 6 मई 2018 को इस जाति के एक लाख लोग एक यात्रा निकाल कर अपनी जाति को आरक्षण मुक्त करने की शुरूआत करेंगे।
यह खबर अभी तक मैन स्ट्रीम मीडिया में नहीं आई है, और शायद आयेगी भी नहीं।
पर यह एक स्वाभिमान से भरा सराहनीय कदम है, जिससे देवेंद्रकुल्ला वेल्लार के लोगों ने  एक सम्मान का स्थान प्राप्त किया है।
    There is a caste of Tamil Nadu, Pallar or "Devendrakula Vellar", it is a backward caste of farmers and laborers, who enjoy reservation of SC, ST category,
But a proud complimentary step is going to raise about one lakh people in this group. They want to make their caste out of reservations.Why?
Reservation makes them feel like a scandal, which they consider to be their insults. They say that due to reservation, they are not getting respect in the society and political parties are misusing them. Thus, on May 6, 2018, one of the castes Million people start a journey and start freeing their caste reservation.
This news has not yet come to the Man Stream media, and probably will not even come.
But it is an honorable step filled with pride, from which the people of Devendrakula Vellar have attained the status of an honor.

एक जमाना था जब चीन के पास अपना "एयरक्राफ्ट" नही था ।

No comments :
1947 में चीन के पास एक भी हथियार बनाने की फैक्टरी नही थी और अंग्रेज 18 हथियार बनाने के कारखाने छोड़कर गए थे । फिर भी 1962 का युद्ध हम हार गए थे । (1947 तक अमेरिका के युद्ध विमान भारत में सर्विस करवाने आते थे ।)
आज चीन हथियारों का नेट एक्सपोर्टर है और हम दुनिया के सबसे बड़े हथियारों के इम्पोर्टर । वोह भी 135 करोड़ की जनता वाला देश ।
एक जमाना था जब चीन के पास अपना "एयरक्राफ्ट" नही था । चीन के राष्ट्रपति सम्मेलन में भाग लेने के लिए दो बार भारत द्वारा भेजे गए एयरक्राफ्ट में बैठकर आये थे।
लेकिन 70 साल बाद चीन की प्रगति और भारत की प्रगति आज किस मोड़ पर है ?? इसके लिए कौन जिम्मेदार है ??
बहुसंख्यक नपुंसक धर्मनिरपेक्ष, राष्ट्रीय कर्तव्यो से कोसो दूर, अहिंसावादी खोखले भारतवासी या फिर लम्पटता , अय्याशी , मक्कारी और विलासिता के चक्कर  में गांधी नेहरू ने जो भारतवर्ष को जो कॉंग्रेसि अपंगता दी है, वह जिम्मेदार है???
      In 1947, China did not have a factory to build a single weapon and the British had left the factory to build 18 weapons. Yet we lost the war in 1962. (Until 1947, US war aircraft used to be used in India.)
Today China is a Net Exporter of Weapons and we are the world's largest arms importer. He is also a nation of 135 million people.
There was a time when China did not have its own "aircraft". The President of China came to sit twice in the aircraft sent by India to participate in the conference.
 But 70 years after China's progress and India's progress is at what turn? Who is responsible for this ??
Gandhi Jawahar Nehru, who has given congressional disability, is responsible for the majority of the impotent secular, non-violent, non-Hindus, hollow Indians, or in the face of laxity, prosperity, luxury and luxury.

हर हिन्दू इसे जरूर पढ़ें ।             ◆ The Great Killing ◆Every Hindu must read it.

No comments :
◆ The Great Killing ◆
हर हिन्दू इसे जरूर पढ़ें ।
बात उस समय की है जब इस देश मे भाईचारा अपनी चरम सीमापर था। पश्चिम बंगाल में नोआखली नामक एक गांव है। कोजागीरी--लक्ष्मी पूजा का त्योहार आनेवाला था....ओर सभी हिन्दू उसीकी तैयारी करने में जुटे थे।
..
"मुसलमानो ये देश ओर ये गांव हमारा है। जब तक हमें पाकिस्तान नही मिल जाता हम हिन्दुओ को जान से मार देंगे। हिन्दुओ को ये गांव छोड़ना होगा....उन्हें ये भुगतना होगा। इनके घरो में आग लगा दो...ओर इनकी बीवियों को अपना बना लो....अल्लाह हु अकबर...नारा ए तकबीर..इंशाअल्लाह हम पाकिस्तान लेके रहेंगे"
उसी भाषण में हिन्दुओ के नरसंहार की तारीख भी मुकर्रर की गई .....…..
10 अक्टूबर 1946 को हिन्दुओ का पावन त्योहार आ गया। उन्हें क्या पता था कि यही पवित्र दिन उनपे कहर बनके टूटेगा। थोड़ी ही देर में अल्लाह हु अकबर की उद्घोषणा से गांव में तहलका मच गया। हर दिशा से आवाजे आने लगी
"मार डालो काफिरो को.....
जिंदा जला डालो .… नही छोड़ेंगे"
मुस्लिमो ने पूरे 2000 वर्ग मिल में फैले हुए...,रायपुर,बेगमगंज,लक्ष्मीपुर ओर सन्दविप इन इलाकों की घेराबंदी कर दी और बस्ती में घुस गए।
हिन्दुओ को घर से बाहर घसीट घसीटकर काटा जा रहा था। निहत्था हिन्दू गाजर मूली की तरह काट दिया गया....,उनकी औरतो के बदन से कपड़े दरकिनार कर दिए गए और उनकी आबरू लूटी गई....., इस्लाम रूपी ये राक्षस यही नही रुके......बल्कि...उन औरतो के पतियों को बंधक बना लिया जाता और उन्हीके सामने उनपर सामूहिक बलात्कार बारी बारी से हो रहा था। चीख ओर चिल्लाहट कीतनी दर्दभरी होगी इसका तो अंदाजा ही लगाया जा सकता है। छोटी छोटी बच्चियों के कौमार्य भी नष्ट भष्ट कर दिए गए। कोई नही बचा उस आंधी से...
औरते सुरक्षित नही थी...., ना ही वो बच्चा जो मात्र 6 महीने का था....ओर ना ही वो बूढा जो बेबसी के 80 साल गुजार रहा था।
पूरे 2000 वर्ग मिल के परिसर में हिन्दुओ की लाशें ही लाशें नजर आ रही थी ..... ये तबाही एक नही --- दो नही बल्कि पूरे सप्ताह चली...हर रोज पूरे सात दिन यही मंजर था....हिन्दुओ की औरतो से जबरन निकाह किया जा रहा था। जबरन धर्म परिवर्तन किया जा रहा था। मुस्लिम राक्षसों को रोकनेवाला कोई नही था। जो भी उनके मन को भाता ये खबीस की संतानें बस वही कर डालते।
वही कलकत्ता के एक न्यूज पेपर में 16 अक्टूबर को इसे "THE GREAT KILLING" इस टाइटल के साथ जनता के आगे परोसा गया... पता नही इसमे कौनसी महानता ओर greatness थी। इसके बाद इस आंधी ने जंगल की आग का रूप लेकर उत्तर प्रदेश बिहार..पंजाब और गुजरात समेत कई जगह तबाही मचा दी। बंगाल में उस समय 15,000 से भी ज्यादा लोग मारे गए और नजाने कितने बेघर हुए....इतिहास का ये एकमात्र दंगा ऐसा था जो आज भी सबसे अव्वल स्थान पर चिन्हित है। अगर समय रहते ही हिन्दू होशियार हो जाता और बेकार के भाईचारे को न दिखाता तो उस समय वो मुस्लिमो का सामना कर सकता था।
हिन्दुओ के लिये यह घटना एक बहुत बड़ी सिख देकर जाती है। जो देशवासी उस समय हिन्दुओ के कत्लेआम को एक "महान" हत्या घोषित करने से बाज नही आए इसकी कोई गारंटी नuही की आनेवाले समय मे भी यह तथाकथित "महान हत्याए" न होंगी।
सजग रहे....सतर्क रहें....अपने धर्म के प्रति जागरूक रहें।
            ◆ The Great Killing ◆
Every Hindu must read it.
The talk is about the time when Brotherhood was at its peak in this country. There is a village named Noakhali in West Bengal. Kojagiri - The festival of Lakshmi Puja was coming ... and all the Hindus were busy preparing for him.
On October 6, 1946, "Ghulam Sarwar Husaini" joined the Muslim League. As soon as he joined, he started conspiring against Hindus. While giving a stirring speech, he addressed a large population of Muslims in which he kept saying that ....
"Muslims are our country and this village belongs to us, till we do not get Pakistan, we will kill Hindus by killing them. Hindus will have to leave this village .... they will have to suffer ... set fire to their homes ... and Take wives of them ... Allahu Akbar ... Nara A Kabir..Insha Allah we will take Pakistan "
In the same speech, the date of the massacre of Hindus was also made ......... ..
The holy festival of Hindus came on October 10, 1946. Did they know that this holy day will be broken by the annihilation of them? In a short while, the announcement of Allah Hu Akbar went on in Tehelka in the village. Started coming out of every direction
"Kill Kafiro .....
Burn it alive ... ... will not leave "
Muslims spread across 2000 square mills ..., Raipur, Begumganj, Lakshmipur and Sandwip seized these areas and entered the settlement.
Hindus were being dragged out of the house by dragging them out of the house. Nihattha was cut like a Hindu carrot radish ...., clothes were removed from the body of their bodies and their ashes were looted ..., these monsters in Islam did not stop ... but rather. ..the husbands of those other people were taken hostage and in front of them mass rape was being done alternately. Screaming and screaming will be painful, it can only be estimated. The virginity of young girls too was destroyed. No one left the thunderstorm ...
The woman was not safe ... nor the child who was only 6 months old .... nor was she old man who was passing 80 years of helplessness.
In the entire 2000 square mill campus, the corpses of Hindu bodies were seen ... these catastrophes were not one- not two but lasted a whole week ... It was exactly the same seven days every day ... Hindu The woman was being forced to marry forcibly. Forcible conversion was being forced. There was no one to stop the Muslim monsters. Those who love their minds, only these children of twenty-six years do the same thing.
In the same paper in Calcutta on October 16, it was served with the title "The GREAT KILLING" before the public ... did not know which greatness and greatness there was. After this the storm created a form of forest fire and destroyed many places including Uttar Pradesh Bihar..Punjab and Gujarat. In Bengal, more than 15,000 people were killed and how many were displaced ... This was the only riot in history that is still marked at the top spot. If at the time the Hindu became smart and did not show the brotherhood of the poor, then he could face the Muslims at that time.
For Hindus this phenomenon leads to a very large Sikh. It will not be a guarantee that the countrymen, at that time, did not accept the killing of Hindus by declaring a "great" assassination, it would not be called "great killings" even in the coming times.
Stay alert ... be cautious .... be aware of your religion.

Popular Posts