Entertenment & Knowledge & Time Pass.NEWS

Friday, April 20, 2018

देश के 90 प्रतिशत न्यूज चैनल विदेशो से पालित-पोषित है, और राष्ट्रघाती है

No comments :
देश के 90 प्रतिशत न्यूज चैनल विदेशो से पालित-पोषित है, और राष्ट्रघाती है
सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता सुब्रमन्यम स्वामी की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को नोटिस जारी किया था,
सुब्रमन्यम स्वामी ने कहा था कि भारत के मीडिया चैनल, अखबारों के मालिक भारतीय ही होने चाहिए!!
ज्ञात हो कि भारत के अधिकतर समाचार चैनलों, अखबारों के मालिक साउदी अरब, इटली, अमेरिका, ब्रिटेन, व दुबई में रहते है !!
जिसकी वजह से मीडिया को सिर्फ इशारों पर नचाया जाता है !!
यदि इस पर सुप्रीम कोर्ट सही फैसला दे देता है तो...ABP, AAJTAK, NDTV ये सब बंद हो जाएँगे !
जब से ये बात सुनी है मीडिया में हडकंप मच गया है... वो बैचेन है, पर अफ़सोस इस बात का है की इसे ब्रेकिंग न्यूज़ में नहीं दिखा सकते !
इस लिंक को क्लिक कीजिए और देखिए ताजा घटना जम्मू के कठुआ में आसिफा कांड की असलियत...⤵️ ‌
1. पिछले दिनों फेस बुक से पता चला की IBN-7 के राजदीप सरदेसाई ने जनपथ, दिल्ली में 50 करोड़ का बंगला खरीदा है। राज दीप सरदेसाई की उम्र 48 साल है और अगर 50 करोड़ का बंगला खरीदा है तो और कितनी संपत्ति होगी उसके पास,इसका अंदाजा ही लगाया जा सकता है। .
2. दीपक चौरसिया को एक व्यक्ति ने चैनल पर ही पूछ लिया कि 50,000 रुपये की पगार पे
काम करने वाला दीपक चौरसिया 500 करोड़ का मालिक कैसे
बन गया ?
तो दीपक चौरसिया सकपका गया, कोई जवाब नही दिया और बहस का मुद्दा ही बदल दिया। दीपक चौरसिया की उम्र केवल 45 वर्ष है, इतनी सी उम्र में पत्रकार की नौकरी कर कोई इतना पैसा जमा कर
सकता है क्या ...? .
3. 'श' को 'स' बोलने वाला राजीव
शुक्ला भी आपको याद होगा। कुछ अरसा ही बीता है जब ये ज़नाब नेताओं के interview लेने वाले एक free lancer पत्रकार थे।
परन्तु आज इन श्रीमान जी की पत्नी एक News Channel की मालिक हैं। जुगाड़ देखिये की साहब बिना कोई जनसेवा किये ही राज्यसभा सांसद हैं, काग्रेस शासन में केद्रीय मंत्री भी बन गए और BCCI के दबंग सदस्य हैं।
सिवाय पैसे और राजनीति जुगाड़बाज़ी के इनकी न कोई following है ओर न कोई काबिलियत। .
4. शाइज़ा इल्मी ने अपनी संपत्ति चुनाव आयोग के सामने 30 करोड़ घोषित की है।
इल्मी की उम्र केवल 43 वर्ष है और वो भी स्टार न्यूज़ में पत्रकार के रूप में काफी लम्बे अर्से तक
जुडी रही है ...ये तो चंद लोग हैं।
इनके अलावा अनेको पत्रकार हैं जो वेतनभोगी थे और आज थोड़े से समय मैं ही अरबों के मालिक हैं। ये बातें पुख्ता करती हैं कि सभी पत्रकारों की सम्पत्तियों की जांच होनी चाहिए ...I
पता चलना चाहिए कि आखिर ये
पत्रकारिता कैसा धंधा है जिसमे लोग छोटी सी उम्र में लोग इतने
अमीर बन जाते हैं ??
अपनी सोच पर मीडिया को हावी न होने दे मित्रों...
क्योंकि ये अपनी नाकारात्मक और सेलेक्टिव खबरो से आपको निरंतर भ्रमित कर ...अवसाद ग्रस्त कर रहे है...!
आज देश के 90 प्रतिशत न्यूज चैनल विदेशो से पालित-पोषित है, और राष्ट्रघाती है, यह तथ्य मैंने अपने अथक प्रयास से जाना है.
आपने भी गौर किया होगा कि लोकसभा चुनाव २०१९ के मुहाने पर...इस मीडिया की बाजीगरी...नाकारात्मक और हैरतअंगेज होती जा रही है।
जय हिन्द ☀

No comments :

Post a Comment

Thank for read my blog.

Popular Posts